हनुमानगढ़


हनुमानगढ़। निजी अस्पतालों में व्याप्त अनियमितताओं, झोलाछाप एवं मेडिकल स्टोर पर प्रैक्ट्सि करने वालों के विरुद्ध राज्य सरकार द्वारा चलाए जा रहे आपरेशन ब्लैक थंडर अभियान के तहत गुरुवार को तीन निजी अस्पतालों की जांच की गई। जांच में तीनों अस्पतालों में अनेक कमियां पाई गई। इनमें दो कार्रवाईयां हनुमानगढ़ में एवं एक कार्रवाई पल्लू में की गई। तीनों अस्पतालों में मिली कमियों के आधार पर उन्हें नोटिस देने की कार्यवाही की जा रही है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. नवनीत शर्मा इन कार्रवाईयों में शामिल रहे। इसके अतिरिक्त एसीएमएचओ डॉ. सुनील विद्यार्थी, स्वास्थ्य निरीक्षक संतकुमार बिश्नोई, पल्लू सीएचसी इंचार्ज डॉ. जयप्रकाश, डीपीसी अनीश गांधी उपस्थित रहे। सीएमएचओ डॉ. नवनीत शर्मा ने बताया कि सम्भागीय आयुक्त श्रीमती वंदना सिंघवी ने बुधवार को आयोजित बैठक में आपरेशन ब्लैक थंडर अभियान के तहत जिले में निजी अस्पतालों में आ बरती जा रही अव्यवस्थाओं, झोलाछाप एवं मेडिकल स्टोर पर प्रैक्ट्सि करने वाले लोगों पर सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए थे। डॉ. शर्मा ने बताया कि जिला कलक्टर श्री कानाराम के निर्देशन में गुरुवार को हनुमानढ़ जंक्शन स्थित खुंजा के वार्ड नं. 4 में चल रहे चावला औषधालय का निरीक्षण किया। निरीक्षण में औषधालय में मौजूद वैद्य गुरदीपसिंह चावला ने बताया कि वे आयुर्वेदिक दवाइयों से उपचार करते हैं। निरीक्षण करने पर पता चला कि वैद्य गुरदीपसिंह चावला के पास बिहार राज्य की कोई डिग्री थी। राजस्थान में इलाज करने के लिए उनके पास कोई भी दस्तावेज उपलब्ध नहीं थे। दवाइयों की जांच करने पर पता चला कि वे वहीं पर कूट-पीट कर दवाइयां बनाते हैं। दवाइयां बनाने का लाइसेंस भी उनके पास नहीं मिला। वहां 7-8 मरीज उपचार के लिए आए हुए थे। निरीक्षण में मिली कमियों के आधार पर चावला औषधालय को नोटिस देने की कार्यवाही की जा रही है। इसके उपरांत जंक्शन स्थित राजीव आयुर्वेद एक्यूप्रेशर सेंटर का निरीक्षण किया गया। यह संस्थान भी क्लिनिक एस्टेबिलशमेंट एक्ट के तहत रजिस्टर्ड नहीं था। वहां पर एलोपैथी की दवाइयां पाई गई, जिन्हें कामन ट्रीटमेंट फैसेलिटी (सीटीएफ), हनुमानगढ़ जंक्शन भिजवाकर नष्ट करवाया गया। सेंटर पर उपस्थित डॉ. अशोक नारंग ने बताया कि वे आयुष चिकित्सक हैं तथा राजस्थान में प्रेक्टिस के लिए रजिस्टर्ड हैं। निरीक्षण में वहां पर काफी कमियां पाई गई। कमियों पाए जाने पर अस्पताल को मौके पर बंद करवा दिया गया तथा अस्पताल प्रशासन को नोटिस देने की कार्यवाही की जा रही है। डॉ. सुनील विद्यार्थी ने बताया कि तीसरी कार्रवाई पल्लू स्थित अपना अस्पताल पर की गई, जो क्लिनिक एस्टेबिलशमेंट एक्ट के तहत रजिस्टर्ड नहीं था। वहां पर तीन मरीज उपचाराधीन थे, जिनमें दो बच्चे थे। मौके पर वहां कोई भी चिकित्सक नहीं मिला। उपस्थित स्टाफ भी कोई संतोषजनक जवाब नहीं दे पा रहा था। निरीक्षण में मिली कमियों के आधार पर अपना अस्पताल को नोटिस देने की कार्यवाही की जा रही है। जारी रहेगी कार्रवाई : डॉ. शर्मा सीएमएचओ डॉ. नवनीत शर्मा ने बताया कि आपरेशन ब्लैक थंडर अभियान के तहत जिले में झोलाछाप, अनाधिकृत अस्पतालों एवं मेडिकल स्टोर पर निजी प्रैक्ट्सि करने वाले लोगों पर भविष्य में भी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने आमजन से आग्रह किया कि ऐसे लोगों के बारे में चिकित्सा विभाग को जानकारी दें ताकि आमजन की सेहत से खिलवाड़ करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जा सके। उन्होंने कहा कि विभाग के कण्ट्रोल रूम नं. 01552-261190 पर सूचना दी जा सकती है।
पशुओं को हीट वेव से बचाने के लिए एडवाइजरी जारी
दिल से और प्रो-एक्टिव होकर करें कार्य, सफलता मिलेगी -संभागीय आयुक्त
सम्भागीय आयुक्त का औचक निरीक्षण शुद्ध पानी, स्वच्छता और हरियाली को बनाइए अपनी प्राथमिकता
सामाजिक सुरक्षा पेंशनर्स 31 मई तक करा सकते है भौतिक सत्यापन

hot news


बॉलीवुड के बीते जमाने के स्टार जीतेंद्र आज 82 साल के हो गए। तकरीबन चार दशक लंबे करियर में जीतेंद्र ने 'तोहफा', 'हिम्मतवाला', 'कारवां', 'परिचय', 'मवाली' समेत कई हिट फिल्मों में काम किया है। अपने अनोखे डांसिंग स्टाइल की वजह से लोग उन्हें जंपिंग जैक बुलाते थे। जीतेंद्र ने करीब 121 हिट फिल्में दीं, लेकिन इसके बावजूद उन्हें कभी बेस्ट एक्टर का अवॉर्ड नहीं मिला। कभी 8 साल में 60 फिल्मों में काम करने वाले जीतेंद्र तकरीबन 23 साल पहले एक्टिंग छोड़ चुके हैं। 2001 में उन्हें फिल्म ‘कुछ तो है’ में देखा गया था। इसके बाद वो कुछ टीवी सीरियलों और वेब सीरीज में चंद मिनट के लिए ही नजर आए हैं। एक इंटरव्यू में जीतेंद्र ने तो ये तक कहा था कि उन्हें याद ही नहीं है कि वे कभी एक्टर थे। वैसे, एक्टिंग के अलावा जीतेंद्र ने प्रोडक्शन हाउस से भी मोटी कमाई की, लेकिन फिल्में प्रोड्यूस करते हुए जीतेंद्र दो बार दिवालिया भी हो गए थे। जीतेंद्र ने तब भी हार नहीं मानी और आज उनकी संपत्ति 1512 करोड़ रुपए है। जन्मदिन के मौके पर जानते हैं जीतेंद्र की लाइफ के कुछ दिलचस्प किस्से… राजेश खन्ना थे जीतेंद्र के क्लासमेट जीतेंद्र का जन्म 7 अप्रैल 1942 को अमृतसर (पंजाब) में हुआ था। उनका असली नाम रवि कपूर है। जीतेंद्र के पिता अमरनाथ फिल्म इंडस्ट्री में नकली ज्वेलरी सप्लाई करने का काम करते थे, इसलिए पूरी फैमिली अमृतसर से मुंबई आकर बस गई थी। जीतेंद्र की शुरुआती पढ़ाई सेंट सेबेस्टियन गोअन हाई स्कूल, मुंबई में हुई थी। इसी स्कूल में उनके साथ राजेश खन्ना भी पढ़ते थे और दोनों बहुत अच्छे दोस्त थे। जीतेंद्र ने आगे की पढ़ाई मुंबई के सिद्धार्थ कॉलेज से पूरी की। ज्वेलरी सप्लाई करते-करते बने बॉडी डबल जीतेंद्र जब बड़े हुए तो अपने पिता के बिजनेस में हाथ बंटाने लगे। इसी सिलसिले में एक दिन वे फिल्ममेकर वी शांताराम से मिले। फिर अक्सर ज्वेलरी सप्लाई के सिलसिले में जीतेंद्र का शांताराम की फिल्म कंपनी में आना-जाना लगा रहता था। इसी दौरान उनके मन में हीरो बनने की इच्छा जाग गई। उन्होंने वी शांताराम से किसी फिल्म की शूटिंग देखने की इच्छा जताई। शांताराम ने कहा-सिर्फ शूटिंग देखने से काम नहीं चलेगा। काम करोगे? जीतेंद्र ने तुरंत हामी भर दी। फिल्म 'नवरंग' की शूटिंग के दौरान जीतेंद्र को छोटे-मोटे काम मिल जाया करते थे। लेकिन एक दिन ऐसा आया जब जीतेंद्र की किस्मत चमक गई। ये किस्सा उन्होंने खुद 'द कपिल शर्मा शो' के दौरान सुनाया था। जब कपिल शर्मा ने उनसे पूछा था कि क्या आप स्ट्रगल के दिनों में हीरोइन के बॉडी डबल बने थे? इस पर जीतेंद्र ने कहा था, हां, मैं फिल्म 'सेहरा' की शूटिंग के दौरान जूनियर आर्टिस्ट था। मुझे शांताराम जी की चमचागिरी करनी पड़ती थी, मैं उस वक्त कुछ भी करने को तैयार था। तो एक दिन बीकानेर में शूटिंग के वक्त हीरोइन संध्या जी की कोई बॉडी डबल नहीं मिल रही थी। शांताराम जी ने मुझे संध्या जी का बॉडी डबल बना दिया और इस तरह मेरी फिल्मों में एंट्री हुई। पहली फिल्म की फीस थी 100 रु. शुरुआत में जीतेंद्र को काम तो मिला लेकिन छह महीने तक कोई फीस नहीं मिली। उनसे वी. शांताराम ने वादा किया था कि जूनियर आर्टिस्ट के तौर पर उन्हें हर महीने 105 रु. दिए जाएंगे लेकिन ऐसा नहीं हुआ। फिर जब वी.शांताराम ने जीतेंद्र को 1964 में फिल्म 'गीत गाया पत्थरों ने' से ब्रेक दिया और तब अपनी पहली फिल्म की फीस के तौर पर जीतेंद्र को 100 रु. मिले। 'गीत गाया पत्थरों ने' से जीतेंद्र को ब्रेक तो मिला, लेकिन फिल्म फ्लॉप रही। ऐसे में जीतेंद्र को फिर छोटे-मोटे रोल करके गुजारा करना पड़ा। हालांकि, उनके मन में अब भी सोलो लीडिंग स्टार बनने की तमन्ना थी। 1967 में रिलीज हुई ‘फर्ज’ जीतेंद्र के करियर की पहली हिट फिल्म साबित हुई, लेकिन बतौर लीड स्टार फिल्म इंडस्ट्री में जमना उनके लिए आसान नहीं था। सोलो लीड हीरो बनाने से पहले डायरेक्टर ने रखी जीतेंद्र के सामने शर्त एक बार फिल्ममेकर सुबोध मुखर्जी ने जीतेंद्र से कहा कि वो उन्हें लेकर एक सोलो हीरो फिल्म बनाना चाहते हैं। जीतेंद्र खुश हो गए, लेकिन तभी सुबोध ने एक शर्त रखी। उन्होंने कहा- मैं फिल्म तभी बनाऊंगा, जब हेमा मालिनी इस फिल्म में काम करेंगी। दरअसल, उस दौर में हेमा मालिनी का स्टारडम किसी मेल सुपरस्टार से कम नहीं था। हेमा जिस फिल्म में होती थीं, उसके सफल होने की गारंटी 100% रहती थी। जीतेंद्र भी ये बात भांप गए कि अगर हेमा उनकी हीरोइन बन जाएं तो उनकी भी नैया पार लग जाएगी और वो भी बतौर हीरो स्थापित हो जाएंगे। मगर ये इतना आसान नहीं था। उस समय हेमा के करियर के फैसले उनकी मां जया चक्रवर्ती लेती थीं। जब जीतेंद्र ने उन्हें फिल्म के बारे में बताया तो उन्होंने मना कर दिया। जीतेंद्र उनके पीछे पड़ गए और कहा-आपकी बेटी अगर मेरे साथ फिल्म कर लेगी तो मेरा करियर बन जाएगा। आखिरकार जया मान गईं। जीतेंद्र ने ये बात सुबोध मुखर्जी को बताई और उन्होंने झट से हेमा को फिल्म में साइन कर लिया। हेमा को साइन करके डायरेक्टर ने जीतेंद्र को किया फिल्म से बाहर आगे मामले में ट्विस्ट तब आया जब सुबोध मुखर्जी ने फिल्म में जीतेंद्र के बजाए शशि कपूर को हीरो के तौर पर साइन कर लिया। ये बात जानकर जीतेंद्र के पैरों तले जमीन खिसक गई, जब उन्होंने सुबोध से इस बारे में पूछा तो उन्होंने कहा, 'फिल्म के प्रोड्यूसर और फाइनेंसर ने कहा है कि जब हीरोइन हेमा मालिनी है तो हीरो भी बड़ा कास्ट करो, जीतेंद्र को लेने की क्या जरूरत। इसलिए मैंने शशि कपूर के साथ फिल्म अनाउंस कर दी।' जीतेंद्र ने जब सुबोध से कहा कि हेमा मेरी वजह से फिल्म में आई हैं तो उन्होंने दो टूक कह दिया कि हम यहां बिजनेस करने बैठे हैं। जीतेंद्र इस बात से मायूस हो गए लेकिन इसी दौरान एल.वी प्रसाद ने उन्हें फिल्म 'जीने की राह' का ऑफर दिया। ये फिल्म सुपरहिट हो गई और जीतेंद्र चमक गए जबकि हेमा और शशि कपूर स्टारर फिल्म 'अभिनेत्री' बॉक्स ऑफिस पर फ्लॉप साबित हुई। हेमा की मां जीतेंद्र से करवाना चाहती थीं बेटी की शादी जब जीतेंद्र बड़े स्टार बन गए तो हेमा की मां जया चक्रवर्ती को वे अपनी बेटी के लिए परफेक्ट लगे। जया, हेमा की उनसे शादी करवाना चाहती थीं। दरअसल, तब हेमा का अफेयर धर्मेंद्र से चल रहा था और संजीव कुमार भी हेमा से शादी का प्रस्ताव उनके घरवालों के सामने रख चुके थे। हेमा की मां को न संजीव कुमार पसंद थे और न ही धर्मेंद्र। वे नहीं चाहती थीं कि हेमा की इन दोनों में से किसी स्टार से शादी हो जबकि जीतेंद्र उन्हें बेटी के लिए पसंद थे। जया चक्रवर्ती ने बेटी हेमा की शादी जीतेंद्र से फिक्स कर दी थी और चेन्नई में दोनों सात फेरे भी लेने वाले थे। तभी धर्मेंद्र शादी के मंडप में जीतेंद्र की गर्लफ्रेंड शोभा को लेकर पहुंच गए और हेमा से उनकी शादी तुड़वा दी थी। इसके कुछ साल बाद जीतेंद्र ने 1974 में गर्लफ्रेंड शोभा से लव मैरिज कर ली थी। श्रीदेवी के साथ हर फिल्म में काम करना चाहते थे जीतेंद्र 1983 में जीतेंद्र ने फिल्म 'हिम्मतवाला' में श्रीदेवी के साथ पहली बार काम किया था। दोनों की जोड़ी को काफी पसंद किया गया। यही वजह है कि एक दौर ऐसा आया जब जीतेंद्र हर फिल्म में केवल श्रीदेवी के साथ ही काम करना चाहते थे। शक्ति कपूर ने एक इंटरव्यू में कहा था, 'जीतेंद्र को 'हिम्मतवाला' में श्रीदेवी का काम इतना पसंद आया था कि उन्होंने डायरेक्टर राघवेंद्र से कहा कि वे अपनी सभी फिल्मों में उनके अपोजिट केवल श्रीदेवी को बतौर हीरोइन साइन करें।' यही वजह थी कि 'हिम्मतवाला' के बाद राघवेंद्र राव ने जब 'जानी दोस्त' (1983), 'जस्टिस चौधरी' (1983), 'तोहफा' (1984), 'सुहागन' (1986), 'धर्माधिकारी' (1986) और 'दिल लगाके देखो' (1988) फिल्में बनाईं तो उन्होंने इनमें श्रीदेवी को ही लिया। जीतेंद्र को रेखा ने दी थी श्रीदेवी के साथ काम करने की सलाह एक इंटरव्यू में जीतेंद्र ने फिल्म 'हिम्मतवाला' में श्रीदेवी के साथ काम करने के बारे में बात की थी। उन्होंने कहा था, 'श्रीदेवी के साथ काम करने की सलाह मुझे रेखा ने दी थी। एक दिन मैं और रेखा, श्रीदेवी की कोई तेलुगु फिल्म देख रहे थे। रेखा ने मुझसे कहा, 'तुम्हें श्रीदेवी के साथ जरूर काम करना चाहिए। उस वक्त रेखा के पास 'हिम्मतवाला' के लिए डेट्स नहीं थी। वे फिल्म में काम करने से मना कर चुकी थीं। ऐसे में मैंने राघवेंद्र राव को श्रीदेवी को कास्ट करने का सुझाव दिया और वे मान गए। इस तरह 'हिम्मतवाला' में श्रीदेवी की एंट्री हुई। श्रीदेवी का डांस में कोई मुकाबला नहीं था। जब 'हिम्मतवाला' की शूटिंग के दौरान डांस मास्टर हमें स्टेप्स सिखाते थे तो श्रीदेवी केवल दो रिहर्सल में ही स्टेप्स सीख जाती थीं और मैं कई बार प्रैक्टिस करता था लेकिन वे भी मेरे साथ तब तक रिहर्सल करती थीं, जब तक मैं अपना डांस स्टेप परफेक्ट तरीके से न कर लूं।' 8 साल में 60 फिल्मों में काम किया 1975 के आसपास जब जीतेंद्र को बतौर हीरो फिल्में मिलना बंद हो गईं तो उनकी फाइनेंशियल कंडीशन काफी खराब हो गई थी। इसके बाद जीतेंद्र दूसरी बार तब दिवालिया हुए जब उन्होंने फिल्म प्रोड्यूस करने के बारे में सोचा। 1982 में उन्होंने फिल्म 'दीदार-ए-यार' बनाई जो कि फ्लॉप साबित हुई। इससे जीतेंद्र को काफी नुकसान हुआ। खराब आर्थिक स्थिति से उबरने के लिए जीतेंद्र ने 8 साल में 60 फिल्मों में काम किया। जीतेंद्र के इतनी फिल्में करने पर लोग उन्हें इनसिक्योर एक्टर तक कहने लगे थे, लेकिन जीतेंद्र को इसमें कुछ गलत नहीं लगता। उन्होंने एक इंटरव्यू में कहा था, 'मैंने 8 साल में लगातार 60 फिल्में इसलिए कीं, क्योंकि ये सच है कि 1980 के दौर में मैं काफी इनसिक्योर था। मैं गोरेगांव की चॉल से उठा व्यक्ति हूं। मैंने वो समय देखा है, जब मेरे घर में पंखा लगा था तो पूरी चॉल के लोग उसे देखने के लिए आए थे। मैंने बुरा दौर करीब से देखा है, इसलिए मैं पागलों की तरह काम करता था।' मैं जॉबलैस हूं' जीतेंद्र 23 साल से फिल्मों से दूर हैं, लेकिन इसके बावजूद वे 1512 करोड़ रुपए की संपत्ति के मालिक हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, अपने प्रोडक्शन हाउस बालाजी टेलीफिल्म्स, ऑल्ट बालाजी और बालाजी मोशन पिक्चर के जरिए उनकी सालाना कमाई 300 करोड़ रु. तक है। जीतेंद्र ने कुछ साल पहले एक इंटरव्यू में कहा था, '20 से ज्यादा साल हो गए, मैं जॉबलैस एक्टर हूं। मैंने अपना एक रुपया नहीं कमाया है। शोभा (पत्नी) और एकता (बेटी) सब काम संभालती हैं। मेरा योगदान केवल इतना है कि मैंने उस पैसे को सही जगह इन्वेस्ट किया है जो कि उन्होंने कमाया है और वो सारे इन्वेस्टमेंट मेरे लिए फायदेमंद साबित हुए हैं।' शराब-सिगरेट को 22 साल से हाथ नहीं लगाया जीतेंद्र ने एक इंटरव्यू में कहा था कि वे पहले खूब सिगरेट और शराब पीते थे, लेकिन 22 साल पहले ये सब छोड़ चुके हैं। जीतेंद्र ने कहा था-जवानी के दिनों में मैंने अपनी हेल्थ के साथ जितने खिलवाड़ करने थे, सब कर चुका। लेकिन जब मैं 60 साल का हुआ तो मैंने ये सब छोड़ दिया। लोग मुझे इस उम्र में भी फिट होने पर कॉम्प्लीमेंट देते हैं तो मैं उन्हें भी ये सब छोड़ने की सलाह देता हूं। आज के दौर में मुझे सलमान खान और ऋतिक रोशन की फिटनेस बहुत अच्छी लगती है।
9 फिल्‍में और दांव पर 600 करोड़, अक्षय-अजय देवगन के लिए ईद पर सलमान का रिकॉर्ड तोड़ पाना लगभग नामुमकिन!
‘बिग बॉस देख रहे हैं’: गृह मंत्रालय के चप्पे-चप्पे पर अब तीसरी आंख से नजर
66वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों का ऐलान, अंधाधुन बेस्ट हिंदी फिल्म, आयुष्मान और विकी कौशल बेस्ट ऐक्टर
विवादित वीडियो मामला: मुश्किल में एजाज खान, कोर्ट ने 1 दिन की पुलिस कस्टडी में भेजा

राजस्थान


जयपुर,राजस्थान में भीषण गर्मी ने गुरुवार को जमकर कहर बरपाया। हीटवेव से प्रदेश में चार लोगों की मौत हो गई। इनमें तीन मृतक जालोर के और एक बालोतरा का है। जालोर के मृतकों में एक महिला भी शामिल है। खैरथल में भी गर्मी से 7 मोरों की मौत हो गई। इधर,जैसलमेर से सटे भारत-पाक बॉर्डर पर तापमान 53 डिग्री तक पहुंच गया है। कल से राज्य में कल से राज्य के 22 जिलों में अगले तीन दिन के लिए लू (गर्मी) का रेड अलर्ट जारी किया है। इन चार मृतक में एक मृतक बालोतरा जिले के निर्माणाधीन रिफाइनरी में काम करने वाला मजदूर है। सुबह काम के दौरान मजदूर की तबीयत बिगड़ गई, जिसके बाद मौत हो गई। वहीं उसके एक अन्य साथी को हॉस्पिटल में भर्ती करवाया गया है। इसी तरह जालोर में जान गर्मी से जान गंवाने वालों में एक महिला जालोर की है, जिसकी घर में काम करने के दौरान तबीयत बिगड़ गई थी। जबकि र एक बुजुर्ग गुजरात के डीसा का रहने वाला है। वहीं अन्य एक मृतक की पहचान नहीं हो पाई है। इन दोनों की जालोर के रेलवे स्टेशन पर गर्मी से बेहोश हो गए थे। जब हॉस्पिटल लेकर पहुंचे तब तक जान जा चुकी थी। 10 राज्यों में लू का रेड अलर्ट, केरल में भारी बारिश से 4 मौत मौसम विभाग ने राजस्थान, पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश में चार दिन के लिए हीटवेव का रेड अलर्ट जारी किया है। जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, गुजरात, मध्य प्रदेश, दिल्ली और महाराष्ट्र में भी लू का अलर्ट है। गुजरात के अहमदाबाद और गांधीनगर में आज और कल (23-24 मई) तापमान को लेकर रेड अलर्ट घोषित किया गया है। मौसम विभाग के मुताबिक, रात 10 बजे भी टेम्परेचर 40 डिग्री रहेगा। चार दिन बाद तापमान में 2-3 डिग्री की कमी आएगी। वहीं, केरल में भारी बारिश के चलते 4 मौत हो चुकी हैं। बॉर्डर पर तापमान 50 डिग्री के पार राजस्थान से सटे भारत-पाक बॉर्डर पर दूसरे दिन भी तापमान ने रिकॉर्ड तोड़ा। जैसलमेर बॉर्डर पर गुरुवार को तापमान 53 डिग्री दर्ज किया गया।
राजस्थान व्यापार व निवेश को बढ़ावा देने के लिए तैयार: शर्मा
राजस्थान में हुआ गजब कांड, CM का PA बन युवक ने RPSC के सेक्रेटरी- चेयरमैन को धमकाया, FIR दर्ज
राजस्थान के स्कूलों में बैन हुए मोबाइल फोन, टीचर अगर गलती से भी ले गए तो करना पड़ेगा यह काम
एडीजी प्रियदर्शी को एसीबी से हटाया, मेहरड़ा को डीजी लगाया:एकल पट्टा, ऑर्गन ट्रांसप्लांट और दूदू कलेक्टर ट्रेप में हुई थी बड़ी चूक

बहुत कुछ


गृह मंत्री अमित शाह ने लोकसभा चुनाव के शुरुआती पांच चरणों में बीजेपी को 310 सीटें मिलने का दावा किया। उन्होंने कहा कि इस बार कांग्रेस 40 सीटों का आंकड़ा भी पार नहीं कर पाएगी और समाजवादी पार्टी (SP) को चार सीटें भी नसीब नहीं होंगी। शाह ने डुमरियागंज से मौजूदा सांसद और बीजेपी उम्मीदवार जगदम्बिका पाल के समर्थन में आयोजित एक चुनावी सभा में दावा करते हुए कहा कि लोकसभा चुनाव के शुरुआती पांच चरणों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 310 सीटें जीत चुके हैं। इंडी गठबंधन का सूपड़ा साफ हो गया है। "...तो आपका पीएम कौन होगा?" उन्होंने यह भी दावा किया कि कांग्रेस इस बार 40 सीटें भी पार नहीं कर पाएगी और सपा प्रमुख अखिलेश यादव को चार सीटें भी नसीब नहीं होंगी। शाह ने विपक्ष के इंडियन नेशनल डेवलपमेंटल इंक्लूसिव अलायंस (I.N.D.I.A) गठबंधन पर तंज करते हुए कहा, ''विपक्ष घमंडिया गठबंधन बनाकर आगे बढ़ा है। मैं आज यहां से राहुल बाबा से पूछना चाहता हूं कि वैसे तो दूर-दूर तक कोई संभावना नहीं है, क्योंकि मोदी जी ही प्रधानमंत्री बनने वाले हैं, मगर देश की जनता जानना चाहती है कि अगर आपको बहुमत मिलता है, तो आपका प्रधानमंत्री कौन होगा?'' "क्या देश ऐसे चल सकता है?" अमित शाह ने सवालिया अंदाज में कहा कि क्या देश ऐसे चल सकता है? उन्होंने कहा, "राहुल बाबा यह परचून की दुकान नहीं है। 130 करोड़ का महान देश है।'' गृह मंत्री ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर का मुद्दा उठाते हुए कहा, ''इन लोगों की मानसिकता तो देखिए कि पाकिस्तान के पास एटम बम है, तो पाकिस्तान के कब्जे वाला कश्मीर भी उसे दे देंगे। एटम बमों से देश के मसले हल नहीं होते हैं, नेता के एटम बम जैसे इरादों से होते हैं, जो मोदी जी के हैं।'' शाह बोले- यह मोदी का राज है शाह ने आरोप लगाया ''राहुल बाबा ने यह कहते हुए जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 नहीं हटाने की बात कही थी कि इससे पाकिस्तान में खून की नदियां बह जाएंगी। राहुल बाबा, वह आपकी दादी के जमाने में होता होगा। यह मोदी का राज है। खून की नदियां छोड़ो, कंकड़ चलाने की हिम्मत नहीं है किसी की।'' गृह मंत्री ने दावा किया कि प्रधानमंत्री मोदी ने देश से आतंकवाद और नक्सलवाद को खत्म कर दिया है। उन्होंने I.N.D.I.A गठबंधन पर अनुसूचित जातियों, अनुसूचित जनजातियों और अन्य पिछड़े वर्गों के आरक्षण पर डाका डालने की तैयारी करने का आरोप लगाते हुए कहा कि कल ही बंगाल के हाई कोर्ट ने 2010 से लेकर 2024 तक अन्य पिछड़े वर्ग में मुस्लिम जातियों को शामिल करने पर रोक लगा दी। शाह ने कहा, ''राहुल बाबा और अखिलेश बाबू, आप वोट बैंक की पॉलिटिक्स में अंधे हो गए हो। मेरी बात ध्यान से सुनो। मैं आज डंके की चोट पर कहता हूं कि हम धर्म के आधार पर मुस्लिम आरक्षण समाप्त कर देंगे और उसे एससी, एसटी और ओबीसी को देंगे।''
दिल्ली के दो कॉलेजों को बम से उड़ाने की धमकी, फोन आते ही मचा हड़कंप, अस्पताल-स्कूल और एयरपोर्ट के लिए आ चुके हैं ईमेल
छत्तीसगढ़ में सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी, एनकाउंटर में 7 नक्सली ढेर, सर्च अभियान जारी
मालीवाल का मारपीट केस के बाद पहला इंटरव्यू:कहा- बिभव ने थप्पड़ और लात मारी, मदद के लिए कोई नहीं आया; केजरीवाल घर में ही थे
देश बर्दाश्त नहीं करेगा... सेना पर राहुल गांधी की टिप्पणी के खिलाफ EC पहुंची बीजेपी, सख्त कार्रवाई की मांग

मौसम


देश विदेश


पटियालाः प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बृहस्पतिवार को पंजाब में सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी (आप) पर तीखा हमला बोलते हुए कहा कि राज्य में मादक पदार्थों का कारोबार फल-फूल रहा है और सरकार कर्ज में डूबी हुई है। मोदी ने लोकसभा चुनाव के सातवें चरण के तहत एक जून को होने वाले मतदान से पहले राज्य में अपनी पहली चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कहा कि पंजाब ने कृषि से लेकर उद्योग तक विभिन्न क्षेत्रों में देश को नेतृत्व प्रदान किया है। इसके बाद उन्होंने आम आदमी पार्टी (आप) पर हमला बोलते हुए कहा कि उद्योग अब पंजाब छोड़ रहे हैं जबकि नशे का कारोबार बढ़ रहा है। उन्होंने कहा, ‘‘पूरी सरकार कर्ज में डूबी हुई है। भाषण की 10 बड़ी बातें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि यही कांग्रेस है जिसने सत्ता के लिए देश का बंटवारा किया, और बंटवारा भी ऐसा किया कि हमें दूरबीन से करतारपुर साहिब के दर्शन करने पड़ते थे। मैं कांग्रेस वालों को कहता हूं कि जब बांग्लादेश की लड़ाई हुई तो पाकिस्तान के 90 हजार से ज्यादा जवान सरेंडर कर चुके थे, हुकुम का पत्ता हमारे हाथ में था। अगर उस समय मोदी होता तो मैं इनसे करतारपुर साहिब लेकर रहता उसके बाद ही जवानों को छोड़ता। नरेंद्र मोदी ने कहा कि यहां पंजाब में दिखावे के लिए दिल्ली की कट्टर भ्रष्टाचारी पार्टी और सिख दंगे की दोषी पार्टी आमने-सामने लड़ने का नाटक कर रही है लेकिन सच्चाई यही है कि पंजा और झाड़ू पार्टियां दो हैं लेकिन दूकान एक ही है। यहां के लोग कुछ भी बयान दें लेकिन दिल्ली में एक-दूसरे को कंधे पर उठाकर नाच रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पटियाला में जनसभा को संबोधित करते हुए कहा, "एक तरफ भाजपा और NDA है और दूसरी तरफ भ्रष्टाचारियों का INDI गठबंधन है। एक तरफ मोदी है जो लड़ाकू विमान से लेकर एयरक्राफ्ट कैरियर तक भारत में बना रहा है, दूसरी तरफ INDI गठबंधन है जो लिखित रूप में कहता है कि हमारे परमाणु हथियारों तक को समाप्त कर देना चाहिए... एक तरफ आतंकवादियों को घर में घुसकर मारने का साहस, दूसरी तरफ INDI वाले हैं जो आतंकवादियों के एनकाउंटर पर आंसू बहाते हैं। पीएम मोदी ने कहा कि राज्य में सरकार का आदेश नहीं चलता है बल्कि यहां रेत और ड्रग माफिया के साथ शूटर गैंग का राज चलता है। उन्होंने कहा, ‘‘सभी मंत्री आनंद ले रहे हैं और कागजी मुख्यमंत्री हमेशा दिल्ली दरबार में अपनी उपस्थिति दर्ज कराने में व्यस्त रहते हैं। मोदी ने कहा, ‘‘क्या ऐसे लोग पंजाब में विकास कर सकते हैं?’ इंडी गठबंधन वालों के लिए अपने वोट बैंक का तुष्टिकरण ही सबसे बड़ा लक्ष्य है। बंटवारे से पीड़ित दलित, सिख भाई-बहनों को मोदी CAA कानून के तहत भारतीय नागरिकता दे रहा है। ये लोग (इंडी गठबंधन) CAA का विरोध करते हैं, CAA के नाम पर दंगे करवाए और ये आज भी कहते हैं कि उनकी सरकार आएगी तो वे CAA को रद्द कर देंगे। आप मुझे बताइए, क्या बंटवारे के पीड़ित सिखों को भारतीय नागरिकता देना गलत है? ये भाजपा है, जो किसान कल्याण को प्राथमिकता देती है। बीते 10 साल में पंजाब से गेहूं और धान की रिकॉर्ड खरीद हुई। 10 साल में हमने MSP में ढाई गुना वृद्धि की। इंडी-गठबंधन वाले घोर सांप्रदायिक हैं, घोर जातिवादी हैं, घोर परिवारवादी हैं। सत्ता के लिए ये किसी को भी धोखा दे सकते हैं। पंजाब जानता है कि उसे अपना वोट बेकार नहीं करना है और आप तो जानते हैं कि वोट उसे दीजिए जो सरकार बनाएं, वोट उसे दीजिए जो विकसित पंजाब बनाने के लिए प्रतिबद्ध हो, जो वि​कसित भारत बनाने का संकल्प लेकर चला हो और इसके लिए जरूरी है। एक तरफ मोदी सरकार है, जिसने 10 साल में 25 करोड़ लोगों को गरीबी से बाहर निकाला है। वहीं दूसरी तरफ, इंडी गठबंधन है, जो कहता है कि वो आपकी कमाई का आधा हिस्सा छीन लेगा। इंडी गठबंधन समाज को, देश को, बांटना चाहता है, लेकिन मोदी भारत को विकसित भारत बनाना चाहता है। इसलिए पंजाब के भाई-बहनों से मैं आशीर्वाद मांगने आया हूं। हमारी सरकार ने लंगर को टैक्स से मुक्त किया। पहले श्री हरमंदिर साहब में विदेशों से भक्त चंदा नहीं दे पाते थे। हमने इसके लिए नियमों में छूट दी। श्री फतेहगढ़ साहिब तो साहिबजादे के शौर्य और शहादत का साक्षी रहा है। ये मोदी सरकार है, जिसने साहिबजादों के शौर्य के लिए समर्पित वीर बाल दिवस घोषित किया। अफगानिस्तान में हमारे सिख परिवार संकट में थे। हम सभी को सुरक्षित वापस लाए। हम गुरु ग्रंथ साहब के स्वरूपों को भी अदब के साथ लाए।
'इंडी गठबंधन में कैंसर से भी ज्यादा विनाशक 3 बीमारियां हैं', श्रावस्ती में पीएम मोदी के भाषण की 10 बड़ी बातें
मोदी बोले- सपा-कांग्रेस का सनातन से 36 का आंकड़ा:ये लोग हमारे धर्म को डेंगू-मलेरिया कहते हैं; सपा जाति देखकर नौकरी देती थी
आजमगढ़, जौनपुर के बाद भदोही पहुंचे पीएम नरेंद्र मोदी, बोले- हिंदुओं को मारकर बहाने की बात करते हैं इनके नेता
एक कांग्रेसी ने शुरू किया RSS:मुस्लिमों का साथ देने पर गांधी से असहमत थे हेडगेवार, मालाबार-नागपुर दंगे के बाद पार्टी छोड़ी

ताजा खबर


taaja khabar...काला धनः भारत को स्विस बैंक में जमा भारतीयों के काले धन से जुड़ी पहली जानकारी मिली...SPG सिक्यॉरिटी पर केंद्र सख्त, विदेश दौरे पर भी ले जाना होगा सिक्यॉरिटी कवर, कांग्रेस बोली- निगरानी की कोशिश....खराब नहीं हुआ था इमरान का विमान, नाराज सऊदी प्रिंस ने बुला लिया था वापस ....करीबियों की उपेक्षा से नाराज हैं राहुल गांधी? ताजा घटनाक्रम और कुछ कांग्रेस नेता तो इसी तरफ इशारा कर रहे हैं....2 राज्यों के चुनाव से पहले राहुल गांधी गए कंबोडिया? पहले बैंकॉक जाने की थी खबर...2019 में चिकित्सा क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार का ऐलान, 3 वैज्ञानिकों को संयुक्त रूप से मिला...चीन सीमा पर तोपखाने की ताकत बढ़ा रहा भारत, अरुणाचल प्रदेश में तैनात करेगा अमेरिकी तोप....J-K: पुंछ में PAK ने की फायरिंग, सेना ने दिया मुंहतोड़ जवाब ...राफेल में मिसाइल लगाने वाली कंपनी बोली, ‘भारत को मिलेगी ऐसी ताकत जो कभी ना थी’ ..

Top News